vishakhapatnams city vizag me L.G Polymersne bhopal gas kand ki yaad tazaa kar di

Image
आंध्रप्रदेश  के विशाखापटनम वायज़ेग के वेंकटपुरम  के आर आर पुरम की एल .जी. पॉलिमर कंपनी मे रात करीब ढाई बजे स्टाइरिन गैस लीक होने से लोग जहा थे वही बेहोश हो गए कुछ लोग सड़क पर भी बेहोशों की अवस्था मे मिले है । गैस लीक होने से  यहा वह लोग गिरने लगे कुछ की लाश सड़क पर तो कोई कुए मे तो कोई नाले किनारे मृत पाये गए इस तरह से कुल  11  व्यक्तियों की मृत्यु हो गयी है साथ कई पशु पक्षी भी इसगेस से आहात हुए हे सबसे ज्यादा नुकसान बुजुर्गो एवं बच्चो मे देखने को मिला है वही अस्थमा के मरीज को भी अस्पताल मे भर्ती करवाया गया है 3 से 4 किलोमीटर क्षेत्र मे फ़ेल जाने से लोगो को रेशेस आंखो मे जलन एवं सांस लेने मे तकलीफ हो रही है करीब 1000 लोगों को अस्पताल मे भर्ती कराया गया है । 100 नंबर से सूचना आने के तुरंत बाद सरकार एवं प्रशासन हरकत मे आया और डीसास्टर मेनेजमेंट ने 5 गाँव को खाली कराया है  । केंद्र सरकार भी हरकत मे आ गयी है और राज्य को यथा संभव मदद का एलान किया है गैस रिसाव पर काबू पाया गया है  ।जगन मोहन रेड्डी द्वारा घटना स्थल पर पहुचकर हॉस्पिटल मे भर्ती मरीजो से मुलाक़ात कर सहायता का आश्वासन पीड़ितो को दिया …

ऊर्जा के गैर नवीकरणीय स्त्रोत (Non renewable energy source)

नॉन रीन्यूवेबल (अनविनीक्रत)ऊर्जा स्त्रोत ऊर्जा के ऐसे स्त्रोत है जो सम्पूर्ण रूप से इस्तेमाल होने के उपरांत नवीनीकरण नहीं किए जा सकते है उदाहरण कोयला ,प्राकृतिक गैस और पावर। ये जीवाश्म ईंधन के भंडार तेजी से कम हो रहे है इनके संरक्षण की आवश्यकता है ।

coal(कोयला):- कोयला राख पदार्थ के अलावा वाष्पशील पदार्थ ,नमी और कार्बन से मिलकर बना होता है यह ऊर्जा का प्रधान स्त्रोत है देश का 67 प्रतिशत व्यावसायिक ऊर्जा की आवश्यकता की पूर्ति का साधन है यह धातुकर्म और रासायनिक उद्योगों मे अपरिहाय है ।कोयला के आगमन के बाद यह उद्योगों मे सबसे आम ऊर्जा स्त्रोत के रूप बना है। देश मे बिजली की स्थापित उत्पादन क्षमता के 52 प्रतिशत के लिए कोयला के खाते से उत्पादित थर्मल ऊर्जा से होती है ।भारत मे कोयला की खदान मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल,बिहार,मध्य प्रदेश,आंध्र प्रदेश,ओड़िसा,और महाराष्ट्र मे है ।भारत मे कोयला खनन उद्योग रानीगंज जो आज पश्चिम बंगाल मे है मे 1774 मे हुई थी । NTPC नेशनल थर्मल पावर कार्पोरेशन सबसे बड़ी राज्य के स्वामित्व वाली बिजली उत्पादन कंपनी है। कोयले का उत्पादन लगभग पूरी तरह से एक सार्वजनिक क्षेत्र की गतिविधि है जो अब कोल इंडिया लिमिटेड द्वारा आयोजित की जाती है ये केंद्र सरकार एवं आन्द्रप्रदेश की सरकार का संयुक्त उद्योग है कोयला चार वर्गो मे पाया जाता है।
1. एंथ्रासाइट (Anthracite) 80 प्रतिशत कार्बन
2. बिटुमिनस (BItuminous) 60 प्रतिशत कार्बन
3. लीगनाइट (Lignite) 50 प्रतिशत कार्बन
4. पीट (Peat) 50 प्रतिशत से कम कार्बन

पैट्रोलियम :- पैट्रोलियम शब्द को लेटीन भाषा से लिया गया है जिसमे से पेट्रो का अर्थ चट्टान एवं oleum का अर्थ तेल से है पैट्रोलियम चट्टान से निकाला जाता है इसलिए इसे मिनरल ऑइल भी कहा जाता है ।कच्चा तेल ठोस हाइड्रोकार्बन ,तरल एवं गैस का मिश्रण है यह पूरे विश्व की 30 प्रतिशत ऊर्जा की पूर्ति का साधन भी है । पैट्रोलियम विभिन्न समुद्री जमा क्रमिक क्षय संपीड़न द्वारा बनता है इसके मुख्य भंडार असम और गुजरात संभावित तेल क्षेत्र असम,त्रिपुरा,मणिपुर,पश्चिम बंगाल,पंजाब,हिमाचल प्रदेश,कत्छ,पूर्वी एवं पश्चिमी तमिलनाडू,आंध्रा प्रदेश,और केरल,अंडमान और निकोबार लक्ष्यदीप है।
नैचुरल गैस :- प्राकृतिक गैस तेल के कुए मे अलग से या कच्चे तेल के सहयोग से प्राप की जाती है विशेष प्राक्र्तिक गैस भंडार त्रिपुरा राजस्थान मे स्थित है।प्रमुखा तेल क्षेत्रों मे बॉम्बे हाइ तमिलनाडू,आंध्र प्रदेश और उड़िसा है ।पैट्रोलियम ऑइल हल्का होता है प्राकृतिक गैस कीमती उपहार की तरह है यह ऊर्जा के स्त्रोत और औद्योगिक कच्चे माल के रूप मे भी इस्तेमाल किया जाता है गॅस ज्वलनशेल और आसान उपयोगी है यह पेट्रोल और डीजल से सस्ती होती है ।सी.एन.जी. का इस्तेमाल मोटर बस,फ़ेर्तीलीज़र के उत्पादन,और बिजली उत्पादन मे किया जाता है ।

पावर :- इसके विभिन्न उपयोगों के कारण शक्ति इसमे निहित है उद्योग,कृषि,यातायात घर इत्यादि राष्ट्र की तरक्की एवं निर्माण मे सहयोग प्रदान करते है यह पानी,कोयला,मिनरल ऑइल,प्राक्र्तिकगैस, पवनऊर्जा,सोलर ऊर्जा,ज्वर की लहर,भूतापीयऊर्जा की मदद से बनाई जा सकती है             
थर्मल पावर :- कोयला पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस थर्मल पावर के मुख्य स्रोत हैं। मीट्रल मूल स्रोत और उन्हें जीवाश्म ईंधन भी कहा जाता है, वे प्रदूषण मुक्त नहीं हैं जो वर्तमान में कुल स्थापित क्षमता के लगभग 63% में योगदान करते हैं और
कुल बिजली का 72% से अधिक उत्पन्न.                                                            डैम के फोटो 

हाइड्रो पावर पानी सतह पर काफी मात्रा में मौजूद है यह सस्ता व स्वच्छ संसाधन है ऊर्जा उत्पादन का सबसे सस्ता स्वच्छ और स्वच्छ संसाधन प्रदान करती है, जो कि जल का उत्पादन जलविद्युत विकास का प्रतिनिधित्व करती है और भारत की समृद्धि हमारी क्षमता का एक बड़ा हिस्सा है उपयोग बहुत अधिक मात्रा में किया जाता है यह तीसरा सबसे महत्वपूर्ण ऊर्जा संसाधन है कॉल और पेट्रोलियम के पश्चात ।जल विद्युत एक सस्ता और नवीनीकरण का स्त्रोत है इसका प्रभाव काफी लंबी दूरी तक किया जा सकता है  यह प्रदूषण मुक्त भी है भारत में फाइट पावर के प्रमुख क्षेत्र पहाड़ी क्षेत्रों में हिमालया उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश पश्चिमी घाट महाराष्ट्र कर्नाटक तमिलनाडु और मध्य प्रदेश                          .                            न्यूक्लियर प्लांट 

न्यूक्लियर पावर :- गुणवत्ता की कमी के कारण प्राकृतिक गैस और तेल ने भारत में परमाणु ऊर्जा के विकास की तात्कालिकता को कम कर दिया है। देश में उत्पन्न होने वाली कुल बिजली का 3% के लिए न्यूक्लियर बिजली खाता है। हमारे देश में न्यूक्लियर पावर का उत्पादन 1963 में पावर स्टेशन तारापुर से किया गया था । एटॉमिक पावर में जैसे कि यूरेनियम और थोरियम आज ऊर्जा के प्रमुख स्त्रोत है।दुनिया के यूरेनियम के भंडार में भारत का दसवां स्थान है की मात्रा यहां पर 75000 टन भंडार है यूरेनियम के प्रमुख क्षेत्र बिहार राजस्थान कर्नाटक हिमाचल प्रदेश उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ भारत में एटॉमिक ऊर्जा कमीशन 1948 में स्थापित की गई थी जिसका प्रमुख उद्देश्य बड़े स्तर पर न्यूक्लीयर बंधन करना था न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ( NPCIL) 1987 में भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया मौजूदा समय में पावर रिएक्टर तारापुर (महाराष्ट्र ),रावतभाटा (राजस्थान),कलपक्कम (तमिलनाडु ),नरोरा (उत्तर प्रदेश), ककरापार (गुजरात), काईगो (कर्नाटक),  कुंदनकुलम (तमिलनाडु) में मौजूद है भारत में न्यूक्लियर प्लांट की क्षमता 2700 मेगावाट है ।

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

घर की वाटर प्रूफिंग कैसे करें

तानाशाह किम जोंग उन के साम्राज्य नॉर्थ कोरिया की वारिश किम यो- जोंग

समुद्री ज्वार से विद्युत उत्पादन Tidal Energy Power Plant